अडानी की कंपनी खोदेगी कोयला, सरकारी बिजली कंपनी के साथ हुआ अनुबंध

रायपुर। सरकारी बिजली उत्पादन कंपनी, छत्तीसगढ़ स्टेट पॉवर जनरेशन कंपनी के लिए अडानी की कंपनी मेसर्स अडानी इंटरप्राइजेज लिमिटेड से कोयला खोदेगी। अडानी की कंपनी रायगढ़ स्थित गारे-पेल्मा सेक्टर 3 में खोदाई करेगी।

वहां से निकलने वाले कोयला की आपूर्ति बिजली कंपनी के मड़वा संयंत्र में की जाएगी। इसके लिए गुरुवार को एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए। इस कोल ब्लॉक का आवंटन 2015 में राज्य की बिजली उत्पादन कंपनी को किया गया था।

बिजली कंपनी के अफसरों ने बताया कि गारे-पेल्मा की क्षमता लगभग 94.7 मिलियन टन है, जिसका कि ओपन कास्ट माइनिंग से खनन होगा। यहां से कोयला उत्खनन हेतु प्रतिस्पर्धात्मक बोली आमंत्रित की गई थी। इसके आधार पर मेसर्स अडानी इंटरप्राइजेज लिमिटेड का चयन किया गया।

एमओयू पर जनरेशन कंपनी के मुख्य अभियंता सिविल प्रोजेक्ट एके जैन, अडानी गु्रप से विनय प्रकाश तथा गारे पेल्मा कॉलरीज लिमिटेड की तरफ से राजेंद्र इंग्ले ने हस्ताक्षर किए।

छत्तीसगढ़ स्टेट पॉवर जनरेशन कंपनी के इतिहास में पहली बार किसी कोल ब्लॉक के साथ कोल उत्खनन हेतु करार किया गया है। स्टेट सेक्टर के जितने कोल ब्लॉक आवंटित हुए हैं, उसमें संभवतः यह प्रथम अनुबंध है।

छत्तीसगढ़ बनेगा पॉवर हब ऑफ इंडिया, पूरा होगा सपना

पॉवर कंपनीज के अध्यक्ष शिवराज सिंह ने कहा कि देश भर में बिजली उत्पादन के क्षेत्र में कोयले का व्यापक उपयोग होता है। इस दृष्टि से आज का अनुबंध जनरेशन कंपनी और छत्तीसगढ़ के विकास के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण उपलब्धि है। आज हुआ समझौता हमें आशान्वित करता है कि छत्तीसगढ़ को पॉवर हब आफ इंडिया बनाने का हमारा सपना साकार होगा।

सरगुजा में भी कंपनी कर रही खनन

अडानी की कंपनी राज्य में सरगुजा में पहले से काम कर रही है। अडानी ग्रुप के ईडी व सीईओ विनय प्रकाश ने कहा कि राज्य में निवेश करने के लिए दीर्घकालिक दृष्टि से यह अनुबंध न केवल हमारे लिए अपितु स्थानीय लोगों के सामाजिक-आर्थिक विकास सहित रोजगार की दृष्टि से महत्वपूर्ण सिद्घ होगा। छत्तीसगढ़ के सरगुजा में पहले से ही हम देश के सबसे बड़ी खानों में से एक खान में उत्खनन का कार्य सफलतापूर्वक संचालित कर रहे हैं।

error: Content is protected !!